On this website, along with entertainment, you will get news of health, technology, and country and abroad. News posts are available in Hindi and English on our website.

Translate

Breaking

Wednesday, August 3, 2022

Old Age Pension किसी और के नाम लाभ किसी और को यह हमारे यहाँ होता है।

        Old Age pension आपके यहाँ जैसे भी मिलती हो लेकिन हमारे भारत में तो बिना रिश्वत के नहीं मिलती है।

       वृद्धा पेंशन, विधवा पेंशन और विकलांग पेंशन के लिए हर वर्ष KYC  का प्रोसेस होता है वह सबसे घटिया तरीका होता है। प्रत्येक ग्राम पंचायत की आशा को पकड़ लिया जाता है और लिस्ट थमा दी जाती है कि आप गांव गांव जाओ और सभी लाभार्थी के आधार नंबर लोडा लेशन ले आओ। आशा को ज्यादा मेहनत और कम तनख्वाह दी जाती है। आशा भी किसी से मिली किसी से नहीं मिली घर बैठे सब काम कर लिया।



       जिस ग्राम विकास अधिकारी को ग्राम के विकास के लिए कई हजारों में तनख्वाह दी जाती है। कई हजारों रूपये रिश्वत से इकठ्ठा होता है वह कभी किसी लाभार्थी के पास नहीं जाता है।

    2022 में old age pension की kyc जनसेवा केंद्र या किसी भी कैफ़े से होनी थी। या आप खुद कर सकते हैं। इससे भी उस लाभार्थी को कोई लाभ नहीं मिला जिसका पैसा किसी अन्य खाते में जा रहा है। क्योंकि kyc के समय रजिस्ट्रेशन नंबर और बैंक खाता की जरुरत होती है। लाभार्थी का पैसा किसी अन्य के पास जा रहा है तो उस खाते को कैसे ढूंढ़कर लाया जाये।

    खाते विवरण ठीक कराने के लिए लाभार्थी ब्लॉक ऑफिस जाये घंटो लाइन में लगे क्योंकि BDO के पास टाइम कम होता है। अपने खाता को ठीक करवाने के लिए किसी 4 class के व्यक्ति या फिर वहां मौजूद दलाल को कमसे कम 500 रूपये रिश्वत दे तब खाता ठीक होगा उसके बाद KYC. लाभार्थी मेहनत और रिश्वत देकर अपना खाता ठीक करवा ले जिससे उसकी पेंसन आ सके लेकिन बाद का क्या भरोसा कितने दिन आये या न आये।

   Old age pension में घोटाला बहुत  बारीकी से समझें।

आपके सामने उदाहरण के लिए एक स्क्र्रीनशॉट है इस फोटो में आपको कुछ भी खास नहीं लगेगा लेकिन जिस old age pension के लाभार्थी को हमने एक लाल घेरे में किया है उससे समझाता हूँ।




    जिस राम कली की vradha pension बनी है सरकार के सभी रिकॉर्ड में इस महिला को पेंशन मिल रही है। इस लिस्ट से आप भी यही समझेंगे की पेंसन रामकली को मिल रही है।

     लेकिन आप नहीं जानते हैं यह पेंशन का रजिस्ट्रेशन नम्बर तो रामकली के नाम है लेकिन जिस सेंट्रल बैंक के खाते में यह पैसा जा रहा है वह खाता रामकली का नहीं है। आप सोचते हो कि यह खाता रामकली का ही है और खाते में पैसा डीबीटी के माध्यम से जा रहा है यह भी झूंठ है। क्योंकि रामकली का सेंट्रल बैंक में खाता ही नहीं है।


    रामकली की पेंशन का लाभ कोई और ले रहा है। जब रामकली की पेंशन बनवाई गयी तो कुछ समय तक रामकली की पेंशन रामकली को ही मिली। लेकिन कुछ दिन बाद रामकली का खाता हटाकर किसी अन्य का लगा दिया गया।

अन्य भ्रष्टाचार से संबंधित पोस्ट पढ़ने के लिए नीचे दी हुयी पोस्ट पर क्लिक करें.

पंचायत चुनाव में पैसा पानी की तरह बहाया जाता है। क्या आप भली भांति जानते हैं। Click To Read

ग्राम प्रधान सहायक की भर्ती सरकारी पैसे की बर्बादी के सिवा और कुछ नहीं लगा।।क्लिक करके पढ़ें।  

लोन देने वाले आप गरीबों को फिर से बेघर कर देंगे जिसके आपने कई उदाहरण देखे clickto read


   आपको पोस्ट में ऐसा महसूस हो रहा है कि झूंठ लिखा है। नहीं एकदम सच है। एक रामकली ही नहीं ऐसे कई हजार vradha pension, vidhva pension के लाभार्थी हैं जिनके पैसे कोई और ले रहा है। पोस्ट में सभी मेंटेन नहीं कर सकता।


Old age pension में घोटाला कैसे होता है।

     रामकली के नाम से पेंशन बनाई जाती है कुछ दिन तक वह ठीक ठाक रामकली के खाते में ही जा रही है। लेकिन कुछ दिन बाद समाज कल्याण विभाग से ही खाते का विवरण बदलना संभव है। ऐसा तो नहीं है कि हमने या आपने सबकुछ किया हो।

   समाज कल्याण विभाग से ही रामकली के खाते की जगह उस व्यक्ति का खाता लगाया जाता है  जो विभाग के लोगों का खास है। या फिर उस महिला का खाता लगा दिया जाता है जो 2 हजार रूपये तक की रिश्वत देता है। या उस व्यक्ति का खाता लगाया जाता है जो लाखों रूपये कमा रहा है और उसके बाद भी एक वृद्धा के हक़ को मार रहा है।

     कुछ वृद्ध या viklang या फिर widow pension के लाभार्थी परेशान हो जाते हैं। कि मेरी pension आती रही और अब कट गयी है। ऐसा नहीं है! जिसकी वृद्धा पेंशन, विधवा पेंशन या विकलांग पेंशन एक बार सुरु होती है  उसके बाद मरने पर ही बंद होती है। आपकी पेंशन का लाभ किसी और के बैंक खाते में जा रहा है जिसे आप नहीं जान पा रहे हैं। यह सब बदलाव विकास भवन में बैठे अधिकारी जो समाज के कल्याण का काम देखते हैं वह करते हैं।

  Old Age pension गलत खातों में इसका जिम्मेदार कौन है?

       Old age pensioner के साथ यह जो धोखाधड़ी हो रही है इसका जिम्मेदार हम किसे ठहराएं! अगर हम कहें कि योगी जी की सरकार में भ्रष्टाचार हो रहा है तो में ही गलत हूँ। अगर में कहूं कि यह भ्रष्टाचार मोदी जी की सरकार में हो रहा है तब भी में गलत हूँ!

     यह सब 2014 के बाद नहीं उसके पहले से हो रहा है Old age pension लाभार्थी के खातों में बदलाव उसके पहले भी किये जाते थे। बस इतनी सी शिकायत जरूर है कि सरकार कोई बदलाव नहीं कर रही हैं जिससे छोटे मोटे भ्रष्टाचार रोके जा सकें।

     जो लोग देश की मुख्य गद्दी पर बैठे हैं वह इन छोटी मोटी बातों पर ध्यान नहीं दें पाते हैं। यही बजह है कि नीचे बैठे सरकारी नौकर भ्रष्टाचार कर रहे हैं जिनके बारे में हम लिख रहे हैं।


         सरकार अपने बजट से निराश्रित महिला पेंशन, विकलांग पेंशन, वृद्धा पेंशन समाज कल्याण विभाग के माध्यम से लोगों को पहुँचाती है। ये सब बहुत अच्छी बात है। बुजुर्गो के पास दो पैसे बनें रहें, छोटी मोटी जरुरत के लिए किसी को हाँथ न फैलाएं इसलिए वृद्धा पेंशन बहुत अच्छी बात है। समाज कल्याण विभाग कोई अपने घर से वृद्धा विधवा पेंशन नहीं देती है। यह सब कर दाताओं की वजह से संभव है। पैसे के लालची दलाल और अधिकारी वृद्धा पेंशन और विधवा पेंशन में से भी पैसे बसूल लेते हैं।

      सब न ही झूंठ है न ही बहुत पुराना है। वृद्धा और विधवा पेंशन में दलाली सन 2021-22 में भी लग रही है। हम किसी सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाएं तो गलत है। पिछली सरकारों में भी वृद्धा और विधवा पेंशन में दलाली लगती है। नयी सरकार ने भ्रष्टाचार से मुक्ति दिलाने की बात करी थी तो भ्रष्टाचार से मुक्ति नहीं मिली।


       Old Age Pension  और widow pension में लाभार्थी दलाली से बच सकता है अगर कुछ बदलाव किया जा सके। एक वृद्ध, विधवा या विकलांग को अपनी पेंशन बनवाने के लिए अपने घर से 40 किमी से भी दूर समाज कल्याण विभाग के कार्यालय जाना पड़ता है। एक बार जाने से बात नहीं बन पाती है तो दोबारा जाना पड़ता है। अगर फिर भी बात न बनी तो तीसरी बार भी जाना पड़ता है। एक व्यक्ति अपनी पेंशन बनवाने के लिए किसी को साथ लेकर या अकेला 40 किमी दूर समाज कल्याण विभाग के 3 चक्कर लगाता है। तो सीधी सी बात है उसका 1000 रुपये से अधिक खर्चा हो जायेगा। वृद्धा पेंशन का लाभार्थी 1000 रुपये खर्च न करके सीधा दलाल को ही 1000 रुपये दे देता है।


       लाभार्थी समाज कल्याण विभाग में अगर एक बार गया उसकी फाइल में कोई कमी रह जाती है तो उसे लौटा दिया जाता है। अगर एक ही बार में सब कुछ ठीक होने के बाद भी फाइल किसी ठन्डे बस्ते में फेंक दी जाती है। इस बजह से भी दो से अधिक बार चक्कर लगाने होते हैं। पर अगर समाज कल्याण विभाग में वही फाइल एक दलाल जमा कर देता है एक ही बार में काम हो जाता है। आपको क्या लगता है सरकारी विभाग दलालों की वजह से जिन्दा है या समाज की सेवा के लिए।


अन्य भ्रष्टाचार से संबंधित पोस्ट पढ़ने के लिए नीचे दी हुयी पोस्ट पर क्लिक करें.

Manrega yojna से रोजगार सेवक ने फर्जी ड्यूटी के दम पर लाखों कमाया। Click To Read

भारत में हो रही है पानी की किल्लत गर्मी आते ही नेताओं और न्यूज़ चैनल की नौटंकी सुरु। click to read

आपके बैंक खाते में जमा पूंजी जरा सी लापरवाही में ठगों के हत्थे चढ़ सकती है Click To Read

      पेंशन के असली हकदार के साथ और लोग भी काफी पैसा कमा रहे हैं। आइये आज इसी को समझते हैं कि कैसे कमा रहे हैं? हमने अपनी एक पोस्ट में वृद्धा पेंशन में फर्जी तरीके से घोटाले घोटाला हो जाते हैं जिसका लिंक ये है अगर पढ़ना चाहते हैं तो इस पर क्लिक करें - हम इस पोस्ट में आपको घोटाला करने की विधि बताते हैं । आप यदि थोड़ी मेहनत और कर लेते हैं तो अच्छी कमाई हो जाएगी । 


    पहला तरीका ये है आपको जिस वृद्ध, विधवा और विकलांग से कागज लेने हैं जिसमें आपको

  • आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • पहचान पत्र
  • आधार कार्ड
  • एक फोटो
  • बैंक पासबुक
  • अगर Widow Pension बनवानी है तो तो लाभ लेने वाली महिला के पति का मृत्यु प्रमाण पत्र।
  • Viklang pension के लिए लाभार्थी का divyang praman  patra देना होता है।

ऑनलाइन करवाने की भूखे भेड़िये की तरह 100 रुपये फीस, और सभी दस्तावेजों की फोटो कॉपी लेनी है।

 

   ये सब करवाने के बाद आपको जिस अधिकारी से कमीशन पर काम करवाने की सेटिंग बना रखी है उसे वह दलालों के माध्यम से ऑनलाइन की फ़ाइल सौंप देनी है । फ़ाइल वह अधिकारी अग्रेषित कर देगा और कुछ दिन में पेंशन धारक के खाते में पेंशन के पैसे आ जायेंगे। जब उसके पैसे आ जाएं तो उसको खबर करनी है माता जी, चाचा जी, आपकी पेंशन आ गयी खाते से निकाल लाओ। पेंशन धारक खाते से पैसे निकालेगा तब  आपको भूखे भेड़िये की तरह बैंक के बाहर ही बैठना है । जैसे ही वह बाहर निकालता है लपक कर उसके पास जाकर आपको उससे हजार रूपये के ऊपर पंद्रह सौ से कम कितने भी ले लेने हैं । 

     एक तरीका और है कमाई का अगर किसी माता जी, चाचा जी की पेंशन समय पर आ रही है और आपको हजार रूपये कमाने हैं । आपकी जिन अधिकारी से कमीशन की वजह से सलाह है उनको बस इतना बोलना है कि इस माता जी, चाचा जी बुड्ढे की पेंशन का खाता संख्या बदलना है । खाता संख्या संसोधन करने वाला वहीं से किसी अपने का खाता लगा देगा तो पेंशन माता जी, चाचा जी की किस्त उसके खाते में जाने लगेगी । जिसकी पेंशन लगातार आ रही है थी बो घबरायेगा और आपके पास आकर बोलेगा मेरी पेंशन नहीं आ रही क्या बात है । आप माता जी, चाचा जी से बहाने बनाकर फिर हजार रूपये लेकर खाता ज्यों का त्यों करवा देना है । हजार रूपये में कुछ हिस्सा भूखे भेड़िये की तरह खाता सही करने वाले का हो गया बाकी आपका । दोस्तो कैसी लगी आपको ये मेरी फर्जी तरीके से ट्रिक । कोई सवाल हो तो कमेंट में जाकर अवश्य पूछें । 



No comments:

Post a Comment

Total Pageviews

पेज