On this website, along with entertainment, you will get news of health, technology, and country and abroad. News posts are available in Hindi and English on our website.

Translate

Breaking

Friday, July 15, 2022

Anganvadi Kendra की शिकायत किससे करोगे सरकार ने बंद नहीं किये तो क्यों बंद हैं।

           बहुत अधिक संख्या में Anganvadi Kendra  खुलते ही नहीं हैं। आज आंगनवाड़ी केंद्र के नाम का ढकोसला कूटते हैं।

Use Google Translate to read in your own language.

Anganvadi Kendra न खुलने का क्या कारण है?  यह कभी आपने सोचा है!

      पूरे भारत से तो नहीं उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों का डाटा है। उस डाटा से एक बात पता चली कई आंगनवाड़ी केंद्र बंद हैं। बंद होने की सूचना कभी सरकार ने नहीं दी है फिर भी बंद हैं।

      नोट- यह एक ब्लॉग है न्यूज़ पोर्टल नहीं है। इस पोस्ट में हम जो भी anganvadi kendra बंद थे उनके नाम नहीं लिख सकते। क्योंकि यह अधिकार सिर्फ न्यूज़ चैनल को है। न्यूज़ चैनल वाले आजकल बॉलीवुड सेलब्रिटी की सादियाँ, सुहागरात, बच्चे, बेडरूम आदि की कवरेज में लगे हैं। उनको यह सब घोटाले कवरेज करने का टाइम नहीं है। हमने अपनी पोस्ट में आंगनवाड़ी केंद्र जो बंद पड़े हैं उनको कवरेज किया है। जो आंगनवाड़ी केंद्र बंद थे उनके नाम मेरे पास हैं। किसी भी पूंछताछ में बता दिया जायेगा। यह पोस्ट एकदम सच है।

Anganvadi kendra क्यों बंद हैं?

       कई anganvadi kendron पर पूंछा तो स्थानीय लोगों ने बताया कि यह आंगनवाड़ी केंद्र एक आध  महीने नहीं वर्षों से बंद है। आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ता यहाँ आती ही नहीं है । महीने दो चार महीने में अपने घर से राशन आदि वितरित कर देती है।

  • लोगों के अनुसार आधा अधूरा राशन भी मिलता है। मिलने वाला अनाज राशन की दुकान पर ही बेच दिया जाता है।

  • कभी सरकार की तरफ से सुना ही नहीं कि anganvadi kendra बंद किये जा रहे हैं। अगर सरकार के द्वारा कहा जाता तो सभी anganvadi kendra बंद हो चुके होते।


  • बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग की वैबसाइट पर भी कोई जानकारी नहीं है कि anganvadi kendra बंद कर दिए गए हैं और आंगनवाड़ी में मिलने बाली सभी सुविधाएँ बंद हैं। फिर यह आंगनवाड़ी केंद्र क्यों बंद हैं।

     कई लोगों ने अपनी बात में यह भी बताया कि जब कभी आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ता मिल भी जाती हैं तो लोगों ने उनसे सवाल किया कि आप आंगनवाड़ी क्यों नहीं खोलते हैं तो उनके दो तरह के जबाब थे।

     कई आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ता का कहना था हमें इतना पैसा नहीं मिलता है जो रोज आपके बच्चों को बुलाने जाएँ.

       कई आंगनवाड़ी ने कहा मेरी जिससे चाहो उससे शिकायत कर दो जब मर्जी होगी तब खोलेंगे।

आंगनवाड़ी केंद्रों की हालत आपने देखी है क्या?


          हम कई आंगनवाड़ी केंद्रों पर गए जहाँ देखा तो कई आंगनवाड़ी केंद्रों का यही हाल था जैसा इस फोटो में है। विभाग के अनुसार anganvadi kendra का कमरा मजबूत होना चाहिए साथ में मजबूत खिड़की व दरवाजे होने चाहिए। बच्चों को लुभावनी लगने वाली दीवारों पर पेंटिंग होनी चाहिए। और बच्चों के लिए खिलौने होने चाहिए जिनसे वह आंगनवाड़ी केंद्र आते समय खेल सकें।


पर इस फोटो में आपको ऐसा कुछ भी नहीं दिखेगा।

        इस आंगनवाड़ी केंद्र की उम्र अभी 10 वर्ष से अधिक नहीं होगी फिर भी यह भवन किसी खंडहर से कम नहीं लग रहा है। इस जगह कभी भूकंप के तेज झटके, पानी की बाढ़ और तूफान भी नहीं है फिर भी कम उम्र में ही खंडहर बन गया है। यह सब क्यों है इसलिए है कि इस आंगनवाड़ी केंद्र को बनवाते समय भ्रस्टाचार हुआ है। जब भवन की सामिग्री भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाएगी तो खंडहर होना जायज बात है।

      बच्चों को खेलने के लिए पर्याप्त बगीचा भी होना चाहिए। लेकिन जब रूम की यह हालत है तो बगीचा कहाँ से आएगा। और आप तो जानते हैं अगर विभाग और सरकार ने बाल बगीचे का जिक्र किया है तो anganvadi kendra पर बाल बगीचे का बजट जरूर बनाया गया होगा। अब उस बजट का पैसा कहाँ गया है ये तो न तूँ जाने न में जानू जानू तो बस इतना जानू कि हजम हो गया है।

 यही तो सवाल बनता है कि 

  • anganvadi kendra का बजट ही नहीं है सरकार के पास। सिर्फ भाषण और रिपोर्ट कार्ड में दिखाया जा रहा है।
  • या फिर सरकार anganvadi का पूरा खर्चा दे रही है लेकिन उस पैसे को अधिकारी खा रहे हैं।

अन्य भ्रष्टाचार से संबंधित पोस्ट पढ़ने के लिए नीचे दी हुयी पोस्ट पर क्लिक करें.

PM आवास योजना घोटाला में रिश्वत अधिकारी खा गए और रिकवर गरीब से किया जा रहा है। Click to Read

Panchayat Chunav से विकास की दर कई गुना बढ़ जाएगी बस एक वर्ष में दो बार होने लगें.Click To Read

Kisan Credit Card कैसे बनेगा? सीधी सी बात बिना दलाली नहीं बनेगा! Click To Read


    Anganvadi kendra बंद हैं इस खबर को पढ़ने के साथ पहले इस बात को समझें कि आंगनवाड़ी केंद्र बनाये क्यों गए इनका क्या उद्देश्य है?

Anganvadi kendra बनाने का क्या मतलब है?

     आंगनवाड़ी केंद्र की परिभाषा कुछ लोग शिक्षा के आभाव में सिर्फ मीठा दलिया ही समझते हैं। क्योंकि आंगनवाड़ी केंद्र में यही सब मिलता ही है लेकिन आंगनवाड़ी के अन्य मायने भी हैं. विभाग के अनुसार क्या उद्देश्य हैं।

 बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग के अनुसार आंगनवाड़ी केंद्रों का मतलब।

3 वर्ष से 6 वर्ष तक के बच्चों को स्कूल पूर्व शिक्षा देना जिससे वह 1 कक्षा में पहुंचने से पहले स्कूल के माहौल में ढल जाएँ और कुछ न कुछ सीख जाएँ।


  • गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ्य से सम्बंधित जाँच और खानपान सम्बन्धी जागरूकता देना।

  • 3 वर्ष तक के बच्चे, 3 से 6 वर्ष तक के बच्चे और गर्भवती महिलयें सभी के लिए पोस्टिक खाद्य सामिग्री का वितरण करना।

  • सभी की सामिग्री में थोड़ा बदलाव है गर्भवती महिला और 3 वर्ष तक के बच्चों को अलग और 3 से 6 वर्ष तक के बच्चों को अलग।


आप आंगनवाड़ी में क्या मिलता है इस बारे में पूरी जानकारी इस लिंक पर क्लिक करके ले सकते हैं।

          आंगनवाड़ी केंद्रों पर मिलने वाली सामिग्री का मेनू कुछ इस प्रकार है। नीचे फोटो में देख सकते हैं। लोगों का कहना तो यह है कि जब यह आंगनवाड़ी केंद्र खुलता था तब भी यह सामिग्री नहीं मिली अब क्या मिलेगी जो चार्ट में लिखी हुयी है।


         एक आम आदमी जैसे किसान, मजदूर आदि! अगर इन लोगों ने सरकार का पैसा खाया है तो कानूनी दबाव बनाकर बसूल करने का प्रावधान है। लेकिन हमारे भारत में कोई सरकारी नौकरी करने वाला, नेता या फिर सरकारी ठेकेदार ये लोग कितना भी पैसा हजम कर जाएँ इनसे बसूली का कोई चार्ज नहीं है।

       एक किसान ने यदि 30 वर्ष पहले बैंक से लोन लिया है तो उसके लड़के से बसूल किया जाता है लेकिन एक सरकारी स्कूल की बिल्डिंग बनवाने वाला पूरा पैसा खा जाये कुछ दिन बाद उससे कोई बसूली नहीं। यही तो खूबसूरती है हमारे यहाँ की कानून व्यवस्था की।

   एक हिसाब लगाओ तो सबसे अधिक भ्रष्टाचार आंगनवाड़ी में ही हो रहा है। क्योंकि यहाँ तो हर माह हजम करने का मौका मिलता है इसलिए विभाग के अधिकारी हर माह खाते हैं।












No comments:

Post a Comment

Total Pageviews

पेज