00324fc9d7109e097332c96a541277f12be11469 india post की डाक सेवा द्वारा अफीम, चरस, गांजा कुछ भी भेजो , - GOVERNMENT SCHEME SCAM

जिन छोटे मोटे भ्रष्टाचार पर सरकार ध्यान नहीं दें पाती है उन्हें अब हम बताएँगे।

Breaking

गुरुवार, 10 मार्च 2022

india post की डाक सेवा द्वारा अफीम, चरस, गांजा कुछ भी भेजो ,

       आप अगर कुछ फर्जी करना चाहते हो तो, India Post की डाक सेवा द्वारा अफीम, चरस, गांजा कुछ भी भेजो और कहीं भी भेजो कोई पकड़ नहीं पायेगा। 


         India Post  Office के बारे में कौन नहीं जानता है? जहाँ पर सबसे भरोसे की बात हो, जहाँ पर अपने पैसे की सुरक्षा की बात आती है वहां लोग पोस्ट ऑफिस का नाम लेते हैं। पर आपको पता है कि कुछ मामलों में पोस्ट ऑफिस भी लोगों का भरोसा तोड़ रही है। भरोषा टूटना कोई आम बात नहीं है उसके कारण हैं। अन्य प्राइवेट कम्पनी जैसे paytm, फ्लिपकार्ट, amazon, आदि लोगों का भरोसा कम न हो लोग हमसे अच्छी तरह से जुड़े रहें ऐसे हर पहलू पर ध्यान रखते हैं। 

         अगर किसी पार्षल भेजनें वाले ने कोई फ्रॉड किया  है उसकी पूरी जिम्मेदारी paytm, फ्लिपकार्ट और amazon जैसी कम्पनी लेती हैं। आपका प्रोडक्ट सही नहीं है या पार्षल के अंदर कोई ईंट पत्थर भरा हुआ है आप उस प्रोडक्ट को बापस भी कर सकते हैं आपको आपका भुगतान भी बापस मिलेगा। पर डाकिया के मुताबिक इंडिया पोस्ट ऑफिस का साफ कहना है आपके पार्षल में ईंट है पत्थर है, किसी का सर है, कोई बारूद है, या पार्शल के अंदर टाइम बम है कोई मतलब नहीं ये कहाँ से आया है। कोई जाँच नहीं कि किसने भेजा है।

-----------------------------------------------------------------------------------

अन्य संबंधित पोस्ट पढ़ने के लिए  नीचे दी गयी पोस्ट की लिंक पर क्लिक करें।

पैसा कैसे कमाएं? यह सवाल आपका भी होगा। जनता को बेवकूफ बनाकर कमा सकते हैं Click To Read

बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग का 3 महीने में सिर्फ 1 माह का राशन बांटा जाता है बाकी का घोटाले की भेंट।Click To Read

अपनी ख़ूबसूरती को बापस पाने के लिए आपने क्या-क्या नहीं आजमाया अब ये भी आजमा लो।क्लिक करके पढ़ें।

किसान क्रेडिट कार्ड लोन जिसकी तीस हजार है उसकी 15 हजार में निपटाई जा रही है क्लिक करके पढ़ें।

-----------------------------------------------------------------------------------


       India post  के डाक द्वारा ऐसी कई घटनाएं हुयी हैं जिसका पोस्ट ऑफिस ने कोई न तो विरोध किया न पोस्ट ऑफिस ने अमल में लिया। अगर पोस्ट ऑफिस पार्षल भेजनें वालों से लेकर पार्षल लेने वालों की जाँच और पार्षल में क्या है? यह सब करने लगे तो एक आम नागरिक ठगी गेंग से बचा जा सकता है। पर ऐसा नहीं है पोस्ट ऑफिस में। जरुरी नहीं है किसी पार्शल की जाँच भेजनें वाले के बाद में की जाए उसे तत्काल ग्राहक के सामने ही करके उसके बाद में पैक किया जाए।

      


         ये एक जगह से डाक आया है जो India Post स्पीड पोस्ट के मध्यम से है। पोस्ट का प्रकार भी COD है जिसका मतलब कैश ऑन डिलीवरी होता है। भेजनें वाले का पता भी है अब ये कोई जलसाजी पता है या सही है जिस पर डाक कोई कार्यवाही नहीं कर सकता है।  नीचे पोस्ट ऑफिस के रूल भी लिखे हैं। India Post Officeने अपने रूल तो बना लिए लेकिन जो लोगों के साथ ठगी हो रही है उसके कोई रूल नहीं हैं। आप फोटो में सबकुछ स्पष्ट देख सकते हैं।


      India Post Office फ्रॉड करने वालों के होसले बुलंद किये है या कर्मचारियों की मिलीभगत है। यह सवाल इसलिए नहीं है कि हमने अपनी तरफ से लिखा है यह सवाल खुद पोस्ट ऑफिस के कर्मचारियों के व्यबहार की बजह से है। आप खुद सोचकर देखो किसी पार्शल भेजनें वाले ने 4000 रुपये का पार्शल भेजा है और पार्शल का प्रारूप कैस ऑन डिलीवरी है, जब डाकिया ने पार्शल प्राप्त करने वाले को दिया उसके पहले डाकिया ने 4000 रुपये लिए तब पार्शल खोलने दिया। पार्शल में क्या था? सायद कोई दो रुपये की सौदा ' यहाँ तक तो ठीक है। सबसे बड़ा पोस्ट ऑफिस की डाक सेवा से यह है कि जो 4000 रुपये डाकिया ने लिए हैं बो रुपये पार्शल भेजनें वाले तक बाद में पहुंचाए जायेंगे या उन 4000 रुपये का भुगतान पोस्ट ऑफिस की डाक सेवा पार्शल भेजनें वाले समय ही कर चुकी है।

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------

अन्य संबंधित पोस्ट पढ़ने के लिए  नीचे दी गयी पोस्ट की लिंक पर क्लिक करें।

मनरेगा से रोजगार सेवक ने फर्जी ड्यूटी से लाखों की फर्जी की कमाई।Clik To Read

ग्राम विकास अधिकारी से ग्राम का विकास हो  हो लेकिन खुद का खूब हुआ है। Click To Read

स्वयं सहायता समूह के द्वारा रोजगार मिलने के अवसर में भी रिश्वत का खेल। Click To Read

-----------------------------------------------------------------------------------

      अगर India Post Office  की डाक सेवा उपरोक्त तरीके से काम करती है फिर तो बिल्कुल किसी बेवकूफी से कम नहीं है। पार्शल भेजनें वाला कौन है? पार्शल के अंदर क्या है? बिना पड़ताल किये भेजना और भेजनें वाले का भुगतान करना ये सब India post office की डाक सेवा चोर लफंगो के होसले बुलंद करना ही है। अगर होंसले बुलंद नहीं कर रहे हैं तो पोस्ट ऑफिस की डाक सेवा को मैनेज़ करने वाले भ्रस्ट और बत्तमीज बिना पढ़े लिखे लोग हैं। जिनको यही ज्ञान नहीं है कि हम फ्रॉड रोकने का काम करें और अपने व्यापार को आगे बढ़ाएं कोई मतलब नहीं है, बस महीने पर समय से तनख्वाह आनी चाहिए और काम का लोड बिल्कुल नहीं होना चाहिए,अगर समय पर नहीं आयी तो धरने पर बैठ जायेंगे।


        india post ऑफिस में कोई भी व्यक्ति अपना पार्षल भेजनें जाता है जिसका जिसका विवरण और जाँच पोस्ट ऑफिस नहीं करता है। पोस्ट ऑफिस के द्वारा अगर कोई बारूद भेजना चाहे वह भी भेज सकता है। पोस्ट ऑफिस के द्वारा कोई व्यक्ति किसी का कटा हुआ सर भेजना चाहे भेज सकता है। ये हम कोई भड़काऊ या लोगों की मानसिकता बदलने वाला लेख नहीं लिख रहे हैं न आपके दिमाग़ में कोई गलत सन्देश जाये। यह सब इसलिए लिख रहे हैं कि पोस्ट ऑफिस पार्षल की जाँच नहीं करता है कि उसके अंदर क्या है? अगर पोस्ट ऑफिस जाँच करता है सबकुछ सही है तो पोस्ट ऑफिस के कर्मचारी पार्षल के साथ छेड़छाड़ करते हैं। और पार्शल में जो सामिग्री है उसे बदल दिया जाता है।


       अब आपको एक असली कहानी बताते हैं। घटना 09/03/2022 को अपरान्ह 1 बजे अछल्दा India post office 206241 की है।



       एक फ्रॉड करने वाले ने फ्लिपकार्ट यूजर से फोन किया कि सर आपके लिए ऑफर में एक मोबाइल निकला है। सभी के लिए वह मोबाइल 16 हजार रुपये का है आपके लिए मात्र 4 हजार रुपये का। और फ्रॉड करने वाले ने यह भी बताया कि सर आप पैसे तब देंगे जब पार्षल आपके हाँथ में होगा। ग्राहक लालच में फस जाता है और वह मोबाइल बुक कर देता है। जब पार्षल इंडिया पोस्ट की डांक द्वारा आता है तो बुक करने वाला व्यक्ति डाकिया के पास अपना पार्षल लेने जाता है। डाकिया सबसे पहली बात कहता है आप पहले 4 हजार रुपये दो उसके बाद पार्षल खोल सकते हो। 

   india post  पर यकीन होने की बजह से ग्राहक डाकिया को 4000 रुपये दे देता है जब पार्षल खोलता है तो उसमें कुछ कागज निकलते हैं। यह सब देखकर जिसकी जेब से 4000 रुपये गया हो उसका चेहरा उतर जाता है। जिसका वीडियो में भी देख सकते हैं।इंडिया पोस्ट का डाकिया साफ कहता है मेरी कोई गारंटी नहीं है आप जाओ और वहां पर बैठे हुए कर्मचारी हँसते हैं बहुत तेज । पार्शल कहाँ से आया हम कुछ नहीं जानते हैं। पार्शल प्राप्त होने के बाद और डाकिया को 4000 रुपये देने के बाद भेजने वाले का नंबर बंद Iidia Post ऑफिस की डाक सेवा का कोई रिस्पॉन्स नहीं प्राप्त करने वाले को 4000 रुपये की चपत लगा दी गयी।


  India Post पोस्ट की डाक सेवा इस तरह से भी मुनाफा करवा सकती है फिर नौकरी की क्या जरुरत कोई भी यही धंधा सुरु कर सकता है। फोन पर लोगों को लालच देकर फसाओ और उनका पार्शल स्पीड पोस्ट से डाक द्वारा भेज दो डाक आपको पैसे दे देगा।

ये पोस्ट कोई कहानी नहीं है बिल्कुल सच है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कुल पेज दृश्य

पेज