On this website, along with entertainment, you will get news of health, technology, and country and abroad. News posts are available in Hindi and English on our website.

Translate

Breaking

Friday, February 4, 2022

राशन घोटाला रियल रिपोर्ट 2023 अधिकारी हर माह लाखों का राशन हजम कर लेते हैं !!! Free Rashan Yojna

  Free Rashan Yojna  खाद्य अपूर्ती विभाग में किस प्रकार से गरीबों का हक निगल रहे हैं इस पोस्ट के माध्यम से जानते हैं।

1

       हमने अपनी कई पोस्ट में राशन आपूर्ति विभाग में हो रहे घोटाला के बारे में लिखा। कितना भी लिखा जाये कितना भी कहा जाये सुधार तो होने वाला है नहीं। भारत में घोटाला करने वालों के अपने अलग ही मजे हैं। 

       ठीक उसी तरह से हमारे लिखने के अलग ही मजे हैं। राशन घोटाला के वैसे तो कई प्रकार हैं और अधिकतम प्रकार के घोटालों के बारे में कई पोस्ट लिखे हैं। उसके बाद भी राशन में घोटालो के बारे में लिखते हुए कमी रह जाती है। इस पोस्ट फिर से राशन कार्ड में हो रहे कुछ आनाज के घोटाले समझते हैं।



अंत्योदय राशन कार्ड में घोटाला कैसे होता है?


       सबसे पहले आपको इस बात की जानकारी तो होगी ही कि अंत्योदय राशन कार्ड किसका बनाया जाता है। सायद न हो तो बता दूँ जो परिवार बेहद गरीबी में आते हैं, जिनके पास जमीन भी नहीं होती है, और न ही कोई कमाई का साधन होता है तो ऐसे परिवार का अंत्योदय कार्ड बनाया जाता है। पर हमारे भारत में भ्रस्टाचार के चलते अंत्योदय राशन कार्ड धारक भी बिल्कुल उल्टे हैं।

अंत्योदय राशन कार्ड

2

आप पूरे भारत तो नहीं लेकिन उत्तर प्रदेश के ग्रामीण या शहरी किसी भी क्षेत्र के राशन धारकों से मिल सकते हैं। और अगर हो सके तो अंत्योदय राशन कार्ड धारक से मिलना। आपको 10 अंत्योदय राशन कार्ड धारक में से 8 से 9 परिवार ऐसे होंगे जिनके घर जमीन भी है, कमाई के साधन भी हैं फिर भी अंत्योदय राशन कार्ड का लाभ ले रहे हैं। जो आनाज एक गरीब को मिलना चाहिए बो नहीं मिल रहा है। इस पोस्ट में यह कोई पुरानी बात नहीं लिख रहा हूँ 2022 में यह सब देख सकते हैं।


अमीरों के अंत्योदय राशन कार्ड बने कैसे?

      बो परिवार जो अमीर तो नहीं हैं लेकिन बेहद गरीब भी नहीं हैं। परिवार में बहुत जमीन भी नहीं है फिर भी इतनी तो है जो खाने के लायक फसल हो जाती है। अगर परिवार में कोई सरकारी नौकरी नहीं है फिर भी कहीं न कहीं से आय का साधन बना हुआ है। पूरे भारत की बात छोडो हमारे उत्तर प्रदेश में ऐसे परिवारों के अंत्योदय राशन कार्ड बने हुए हैं जो गरीब नहीं हैं। यह अन्तोदय राशन कार्ड उन्होंने खुद बनवाये हैं।


     नया राशन कार्ड बनवाने और हटाने का अधिकार राशन डीलर को नहीं है उसके बाद भी राशन डीलर जिसका चाहता है उसका राशन कार्ड बनवा देता है और हटवा भी देता है। यह सब अब नया नहीं हो रहा है जबसे राशन कार्ड आया तभी से हो रहा है। अंत्योदय राशन कार्ड धारक की सूची अगर आप अपनी ग्राम पंचायत में पता करें तो 80% से अधिक अंत्योदय राशन कार्ड ऐसे लोगों के बनें हैं जो गरीब नहीं हैं। यह सब इसलिए संभव है ग्राम विकास अधिकारी ने अपने काम को ठीक नहीं किया। राशन कार्ड डीलर को जो अपना लगा उसी का अंत्योदय राशन कार्ड बनवा दिया। इस हिसाब से राशन डीलर ही नहीं रखने चाहिए क्योंकि जो पात्र है उसे कुपात्र बना दिया। आपकी ग्राम पंचायत में भी ऐसे परिवार होंगे जो अपने पास 50 किलो आनाज का स्टॉक नहीं कर पाते हैं। क्या उनके बारे में ग्राम विकास अधिकारी नहीं जानता है या राशन डीलर नहीं जानता है। ऐसे परिवारों के पात्र ग्राहस्थी राशन कार्ड भी नहीं हैं। मेरे ब्लॉग वेबसाइट का बस इतना ही सवाल है अंत्योदय कार्ड धारकों की जाँच जरूर होनी चाहिए पर होगी नहीं।


बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग में घोटाला।

     बाल विकास के लिए जो सामिग्री दी जाती है उसकी फरवरी 2022 तक की रिपोर्ट तो यह है कि उस सामिग्री में घोटाला किया जा रहा जिसमें कोई सुधार नहीं है। वितरित की जाने वाली सामिग्री आंगनवाड़ी के द्वारा वितरित की जाती है। उस सामिग्री को आंगनवाड़ी कार्यकर्ता राशन डीलर के यहाँ ही बेच देती है। बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की जो भी सामिग्री होती है वह प्रति माह लाभार्थी तक पहुँचानी चाहिए। लेकिन आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ता 3 माह में सिर्फ एक बार ही आधी अधूरी सामिग्री बाँटती है बाद बाकी पूरी की पूरी हजम हो जाती है। क्या ऐसे लोगों पर प्रशासन कार्यवाही नहीं कर सकता है? नहीं कर सकता है। क्योंकि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के ऊपर जो भी अधिकारी होते हैं सभी अपना अपना हिस्सा लेते हैं तो कार्यवाही कौन करेगा। यह बात भी कोई पुरानी नहीं है फरवरी 2022 तक वही चल रहा है जो पहले से चल रहा है।

     अगर कोई अधिकारी किसी एक आध आंगनवाड़ी पर कार्यवाही कर भी देता है बो सब दिखावा होता है। उस कार्यवाही पर अखवार वाले भी हेडलाइन कुछ इस तरह बनाकर चुप हो जाते हैं " आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पर गिरी गाज " बस उसके बाद कुछ ले दे कर मामला शांत।

3

      राशन डीलर के द्वारा घोटाला की तो आप जानते हैं। प्रति राशन कमसे कम 1 किलो प्रति माह और 12 माह में कमसे कम 2 बार फुल राशन ही गायब। राशन डीलर द्वारा घोटाला की पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें।


No comments:

Post a Comment

Total Pageviews

पेज