00324fc9d7109e097332c96a541277f12be11469 Manrega yojna से रोजगार सेवक ने फर्जी ड्यूटी के दम पर लाखों कमाया। - GOVERNMENT SCHEME SCAM

जिन छोटे मोटे भ्रष्टाचार पर सरकार ध्यान नहीं दें पाती है उन्हें अब हम बताएँगे।

Breaking

शनिवार, 21 अगस्त 2021

Manrega yojna से रोजगार सेवक ने फर्जी ड्यूटी के दम पर लाखों कमाया।

     Manrega Yojna से Rojgar Sevak सुपरवाइजर की एक माह में लाखों की कमाई। नरेगा लाभार्थी को बाबा जी का ठुल्लू मिलता है।

Manrega Yojna क्या है।  

 
        मनरेगा जॉब कार्ड, Manrega Yojna से आपको 100 दिन काम देने की गारंटी होती है । इस मनरेगा योजना का मुख्य उद्देश्य यह है ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार लोगों को 100 दिन काम देने की गारंटी । मनरेगा योजना शहरी क्षेत्र के लिए नहीं है । हाँ लेकिन मनरेगा जॉब कार्ड आप शहर में रहते हुए भी बनवा सकते हैं । मनरेगा जॉब कार्ड बनवाने के लिए आपके सभी दस्तावेज ग्रामीण क्षेत्र के होने चाहिये । आप कुछ ले दे कर अपना मनरेगा जॉब कार्ड बनवा सकते हैं। मनरेगा योजना के अंतर्गत जो भी सुविधाएं मजदूरों को मिलती हैं वो सभी सुविधा का लाभ आपको मिलेगा । मनरेगा जॉब कार्ड आपको काम नहीं करना है बो तो फर्जी ड्यूटी चढ़ा दी जाती हैं । जिससे आपको कुछ कमीशन मिलता रहेगा । मनरेगा योजना में फर्जीवाडा कैसे होता है इसी लेख में है बस पूरा ध्यान से पढ़िए ।मनरेगा जॉब कार्ड एक परिवार में सिर्फ 5 व्यक्ति का ही बनाया जा सकता है । मनरेगा योजना के अंतर्गत मनरेगा जॉब कार्ड 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी महिला और पुरुष का बनाया जा सकता है।
Manrega Yojna



          आपने अगर मनरेगा योजना के अंतर्गत मनरेगा जॉब कार्ड के लिए आवेदन किया है और आपका कार्ड बना है या नहीं बना है तो आप आधिकारिक वेबसाईट पर क्लिक करके अपने प्रदेश को चुन कर देख सकते हैं । जिसका लिंक हम नीचे दे रहे हैं। फिलहाल हम आपको उत्तर प्रदेश की लिस्ट का लिंक दे रहे हैं आप इस पर क्लिक करके देख सकते हैं । उत्तर प्रदेश नरेगा जॉब लिस्ट मेरा लेख आपको यह जानकारी देने का नहीं है आप आवेदन कैसे करें। मेरा उद्देश्य मनरेगा योजना में घोटाला कैसे होता है यह लिखने का है । 

Manrega Yojna Kya hai ?

         मनमोहन सरकार में एक योजना आयी थी नरेगा , जिसके अंतर्गत स्कीम थी ग्रामीण मजदूरों को 100 दिन रोजगार देने की। स्कीम अच्छी थी आज भी अच्छी है बस उसका नाम बदलकर Manrega Yojna हो गया है। हम भारतीय अच्छे से अच्छे काम में घोटाला न कर पाएं तो बेकार ही है । ऐसा ही नरेगा में है रोजगार के नाम पर लूट मची है । जो भी नरेगा की ड्यूटी का लेखा जोखा रखता है बो महीने में पचास हजार के लगभग न कमाए बो महीना बेकार जाता है ।

 -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

अन्य संबंधित पोस्ट पढ़ने के लिए  नीचे दी गयी पोस्ट की लिंक पर क्लिक करें।

सरकार आपके द्वार योजना क्यों असफल की गयी क्लिक करें।

हर घर को शुद्ध जल पहुँचाने का काम कितनी हकीकत है कितना झूंठ है।क्लिक करके पढ़ें।

ऑनलाइन एग्जाम कैसे होता है यह तो जानना सरल है लेकिन उसमें स्कैम कैसे होता है यह भी जान लो। Click To Read

वैश्या कोई ऐसे ही नहीं बन जाता है बना भी दिया जाता है। वेश्यावृत्ति धंधा करने वाली Click TO Read

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


Manrega Yojna में यह हाल वहां का ही नहीं है जहाँ हम रहते हैं वल्कि पूरे उत्तर प्रदेश ही नहीं सम्पूर्ण भारत की हो सकती है। एक रोजगार सेवक को इतनी अधिक तनख्वाह नहीं मिलती है जिससे वह कम समय में लाखों रुपये का अपने पास बजट बना ले। हमें इस बात से बिल्कुल भी नाराजगी नहीं है कि एक रोजगार सेवक के पास इतना पैसा है हम तो कहते हैं सभी के पास खूब पैसा हो। इस बात से थोड़ा असंतोष है कि गरीब और मजदूर के हक़ का रोजगार सेवक हड़प रहे हैं ये गलत है।

 Manrega Yojna से रोजगार सेवक फर्जी कमाई कैसे कर रहे हैं?

     यह सब Manrega Yojna में केवल Rojgar Sevak ही नहीं करता है बल्कि मनरेगा योजना से जुडा हुआ मजदूरों से ऊपर का अधिकारी फर्जी ड्यूटी का पैसा हजम कर रहा है। इस बात की जाँच हो या न हो मुझे क्या है मेरी पोस्ट किसी ईमानदार अधिकारी तक पहुँच भी जाती है तो क्या होगा। मनरेगा योजना में हो रहे घोटाले के बारे में सभी पहले से जानते हैं। यह भी जानते हैं कि इस तरह से रोजगार सेवक पैसे कमा रहे हैं।


Step-1- manrega yojna  नरेगा कार्ड धारकों की डिटेल सुपरवाइजर अपने पास तो रखता ही है । जिसमें से जो खास आदमी होते हैं जिनको उनके कार्ड पर बिना काम किये ही महीने की दस या पंद्रह ड्यूटी चढ़ा दी जातीं हैं यहाँ पर तो काम करने का पैसा नहीं मिलता है और उस ड्यूटी का पैसा भी कार्ड धारक के खाते में डाल दिया जाता है । एक गरीब के लिए अच्छा भी है उसको ड्यूटी न करने का भी लगभग तीन हजार रूपए दिया जा रहा है लेकिन ऐसा नहीं है । उस मजदूर को मात्र 10% ही दिया जाता है बाकी का पैसा फर्जी ड्यूटी चढ़ाने वाला अपने पास रखता है । और ऐसा एक व्यक्ति के साथ नहीं होता है एक महीने में तीस से चालीस लोगों को फर्जी तरीके से पेमेंट करवाया जाता है । जिसको फर्जी ड्यूटी करने का महीने में दो सो रूपए मिल जाता है बो लालची मजदूर बेचारा उतने में ही खुश है जिसको एक मजदूर से ढाई हजार के लगभग मिला बो उतने में भी खुश नहीं है ।

Step-2- manrega yojna  मजदूरों की ड्यूटी का लेखा जोखा जिसके पास होता है उसकी आर्थिक स्थिति ठीक हो ही जाती है । उसके खेत में काम उसके घर में काम बना ही रहता है । तो वह काम अपने घर और खेत पर करवाता है,,अपनी लकड़ी कटवाता है, कपडे धुलवाता है लेकिन मजदूरों की मजदूरी सरकार से नरेगा , मनरेगा योजना  manrega yojna खाते पर डलवा देता है । इससे भी काफ़ी मुनाफा हो जाता है काम के समय खेत पर दस मजदूर भी काम कर रहे हैं तो एक महीने की मजदूरी दो सौ रुपये प्रति व्यक्ति प्रति दिन के हिसाब से 60 हजार रूपए होता है इतनी बचत एक किसान के लिए बहुत होती है । 

 -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

अन्य संबंधित पोस्ट पढ़ने के लिए  नीचे दी गयी पोस्ट की लिंक पर क्लिक करें।

भारत में हो रही है पानी की किल्लत गर्मी आते ही नेताओं और न्यूज़ चैनल की नौटंकी सुरु। click to read

आपके बैंक खाते में जमा पूंजी जरा सी लापरवाही में ठगों के हत्थे चढ़ सकती है Click To Read

बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग का 3 महीने में सिर्फ 1 माह का राशन बांटा जाता है बाकी का घोटाले की भेंट।Click To Read

अपनी ख़ूबसूरती को बापस पाने के लिए आपने क्या-क्या नहीं आजमाया अब ये भी आजमा लो।क्लिक करके पढ़ें।


-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

          Step-3- मनरेगा योजना  manrega yojna  ये तरीका ऊपर वाले दोनों तरीकों से मिलता जुलता है लेकिन इसमें कमाई थोड़ी कम है लेकिन है । ग्रामीण क्षेत्र में कोई कच्ची सड़क या नाले की खुदाई नरेगा के अंतर्गत होती है तो उसमें जिस जगह पर दो दिन काम होने को होता है वहाँ एक दिन में ही निपटा दिया जाता है । उस काम को जल्दी निपटाने का मतलव ये नहीं है कि सरकार की बचत की गयी उसका मतलव ये होता है वहाँ पर काम के तीन दिन दिखाने होते हैं। तीन दिन इसलिए दिखाए जाते हैं बाकी के दिन  फर्जी ड्यूटी चढ़ाने वालों में अर्जेस्ट करने होते हैं ।

     Manrega Yojnaमें हो रहा फर्जीवडा आज पोस्ट लिख रहे हैं आज ही नहीं सुरु हुआ है। मनरेगा योजना में हो रहा घोटाला जबसे योजना आयी है तभी से हो रहा है। एक रोजगार सेवक ने अपने कार्यकाल में अगर 10 लाख रुपये की तनख्वाह पायी है तो 30 लाख रुपये से भी अधिक फर्जी ड्यूटी चढाकार कमाया है। आपको यह भी बताते हैं कि रोजगार सेवक ने यह पैसा कैसे कमाया है।

            Manrega Yojna  चलो जो भी हैं कमाने के तरीके कोई पूरा दिन फावड़ा चलाकर 200 रुपये ही कमा पाता है । कोई कलम भी नहीं चलाता है दिन के बीस हजार कमा लेता है । इंसान की जिंदगी की यही बद सूरती है । में कोई फर्जी या असली पत्रकार और अधिकारी तो हैं नहीं जो इस भ्रष्टाचार को बन्द कर दूँ बस यूँ ही पोस्ट लिखने का शौक है पढ़ो और मजे लो ।

Manrega Yojna के लाभ 

  • मनरेगा योजना के लाभ कुछ अधिक नहीं हैं। 1 वर्ष में 100 दिन रोजगार की गारंटी है। लेकिन किसी भी व्यक्ति को लगातार या एक वर्ष में 100 दिन manrega job card से काम नहीं मिलता है।


  • हालांकि एक manrega card धारक को ड्यूटी के हिसाब से 100 दिन काम मिला है लेकिन सच्चाई यह है 60% ड्यूटी फर्जी होती हैं जिनका पैसा रोजगार सेवक ने हजम किया होता है।


  • Manrega job card धारक  को सबसे पहला लाभ तो तो यही होना था लेकिन उसमें भी रोजगार सेवक हजम कर गए तो अन्य लाभ मिलेगा भी कैसे।


  • हालांकि प्रदेश सरकारें समय समय पर manrega job card धारकों के लिए समय समय पर साईकिल आदि छोटे मोटे आइटम दे देती हैं। यह लाभ भी 5% से कम लोगों को मिलता है।


  • Manrega job card धारकों के लिए एक लाभ और है। Card धारक की बेटी की शादी में कुछ मदद होती है पूरी जानकारी नहीं है कितनी मदद मिलती है लेकिन मदद मिलती है। यह लाभ भी 1%  के आसपास लाभार्थी को मिल पाता है।

Manrega Job Card कार्ड कैसे बनेगा?

       Manrega job card बनवाने के लिए आपको अपनी ग्राम पंचायत के रोजगार सेवक से मिलना होगा। अगर नये manrega job card बनाये जा रहे होंगे तो आपका बन जायेगा। जिसमें एक सर्त रहती है कि अगर कहीं काम लगा है तो आपको जाना पड़ेगा बुलाया जाता है तो।


Manrega job card बनने के दो कंडीसन हैं।


          1- आपके जॉब कार्ड में एक वर्ष की ड्यूटी 100 ही चढ़ाई जाएंगी लेकिन आपको पैसा 20% से कम ही मिलेगा। ऐसा इसलिए है आपका कार्ड बनने के बाद आपको ड्यूटी नहीं जाना है आप अपना अन्य काम देखिये। आपके कार्ड में फर्जी ड्यूटी रोजगार सेवक के द्वारा चढ़ाई जाएंगी और पैसा निकाला जायेगा।


और आप तो समझ ही रहे हैं पूरी पोस्ट में एक ही बात साबित हो रही है कि 20% आपको मिलेगा बाकी का रोजगार सेवक रखेगा।


         2- आपका जॉब कार्ड बनेगा आपके कार्ड में 100 ड्यूटी भी नहीं चढ़ेगी। आपको 100 दिन में से मात्र 20 या 25 दिन ही काम मिलेगा।

         यह सब इसलिए है कि एक ग्राम पंचायत का 100 % काम में से 70 % काम होता ही नहीं है। 30% काम होता है जिसमें से 20% वह लोग करते हैं जिनको 100 दिन काम नहीं मिलता है।  10% काम JCB मशीन से होता है जो फर्जी ड्यूटी चढ़ाने वाले लोगों में अर्जेस्ट किया जाता है।लेकिन दिखाया पूरा ही जाता है।


            सपथ पत्र - में सरकारी कर्मचारी/ठेकेदार तहे दिल से घोषणा करता हूँ सरकारी खजाने से लूटपाट गरीब मजदूरों का शोषण यूँ ही करता रहूँगा । में लूटपाट इसलिए बंद नहीं कर रहा हूँ कि यह मेरी आदत बन चुकी है बल्कि इसलिए करता हूँ कि जबतक पूरा सिस्टम सतर्क होता है तबतक लाखों करोड़ों कमा चुका होता हूँ । और सिर्फ में ही नहीं कमाता हूँ मेरे नीचे और ऊपर के सभी अधिकारी कमाते हैं । सरकार भारतीय जनता पार्टी की हो या कांग्रेस की भ्रष्टाचार होता रहेगा । 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कुल पेज दृश्य

पेज