On this website, along with entertainment, you will get news of health, technology, and country and abroad. News posts are available in Hindi and English on our website.

Translate

Breaking

Sunday, August 8, 2021

भारतीय बैंकिंग सिस्टम के सबसे सुरक्षित कौन से तरीके हैं। जिससे खाता धारक के पैसे की सुरक्षा की जा सकती है।

    आपके बैंक खाते में जमा पूंजी जरा सी लापरवाही में ठगों के हत्थे चढ़ सकती है इसलिए जागरूकता बहुत जरुरी है।

भारतीय बैंकिंग सिस्टम
भारतीय बैंकिंग सिस्टम

    भारत में पैसों का लेनदेन करने के लिए आप कई तरीकों का प्रयोग कर सकते हैं जब कभी हम कोई बस्तु खरीदते हैं या कोई प्रॉपर्टी खरीदते हैं तो वहाँ पर प्रॉपर्टी या वस्तु के बदले में रूपये देने होते हैं रूपये का भुगतान करने के लिए लोग नकद रूपये का भुगतान करते हैं जिसे हम जनरेशन के हिसाब से हार्ड कैश भी कहते हैं अगर कोई बड़ी धनराशि है तो उसके भुगतान के लिए चेक का प्रयोग करते हैं जो बेहद ही भरोसेमंद माना जाता है। नकद भुगतान के आलावा जब हम लोग किसी वस्तु के बदले में वस्तु की जो भी कीमत होती है उतने रूपये का भुगतान मोबाइल के e- wallet से करते हैं e-wallet के द्वारा भुगतान करने से आपके बैंक खाते में जमा राशी सीधे उसके खाते में पहुँच जाती है आपने जिसको भुगतान किया है इस तरह के भुगतान को हम सॉफ्ट कैश कहते हैं

 भारत में भारतीय बैंकिंग सिस्टम का प्रयोग कई प्रकार से किया जाता है जो इस प्रकार हैं

1-NEFT - neft का फुल फॉर्म क्या है?

Neft का फुल फॉर्म Netional Electronics Fund Transfer.

Neft को हिंदी में क्या कहते हैं?

Neft को हिंदी में राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण कहते हैं

Neft के द्वारा भुगतान करने की विधि बैंक के द्वारा किसी एक खाते से दूसरे बैंक खाते में भेजी जाती है यह भारतीय बैंकिंग सिस्टम सबसे सुरक्षित भारतीय बैंकिंग सिस्टम है अगर बैंक के द्वारा पैसा भेजा जा रहा है बैंक के द्वारा neft भारतीय बैंकिंग सिस्टम प्रयोग करने पर सबसे अच्छी और सुरक्षित सुविधा है लेकिन यह पैसा भुगतान प्राप्त करने वाले के खाते में तुरंत नहीं पहुंचता है

Neft के द्वारा पैसे भेजने पर तुरंत क्यों नहीं पहुँचते हैं?

   अगर आप किसी के खाते में NEFT भारतीय बैंकिंग सिस्टम का प्रयोग करके पैसे भेज रहे हैं वह पैसे खाता धारक के पास तुरंत नहीं पहुँचते हैं जिसका कारण है सबसे पहली बात आप NEFT बैंकिंग प्रणाली का प्रयोग कर रहे हैं। NEFT के द्वारा भुगतान बैंकिंग छुट्टी वाले दिन नहीं कर सकते हैं। NEFT के द्वारा भुगतान बैंक के वर्किंग समय पर ही संभव है।

 

Neft के द्वारा भुगतान छुट्टी वाले दिन क्यों नहीं होता है?

     आप अगर NEFT भारतीय बैंकिंग सिस्टम का प्रयोग करके किसी को भुगतान कर रहे हैं। तो बैंक की छुट्टी होने की वजह से आपका भुगतान नहीं पहुँचता है जिसकी वजह यह है आपने जिस खाते में पैसे भेजने के लिए अनुरोध किया है उस खाते की जाँच वह बैंक करती है जिसमें उसका खाता है आपने जो डिटेल जिसमें बैंक का IFSC  कोड बैंक नाम खाता धारक का नाम और खाता संख्या भरी है वह खाता संख्या उस शाखा में है या नहीं अगर है भी तो नाम आदि मिस मैच तो नहीं है  अगर कोई भी डिटेल मिस मैच है तो आपका NEFT के द्वारा बैंकिंग प्रणाली का प्रयोग रद्द कर दिया जायेगा आपकी राशी बापस कर दी जाएगी

 

       2- चैक के द्वारा भुगतान - चैक के द्वारा आप किसी का भुगतान कर रहे हैं यह भारतीय बैंकिंग सिस्टम भी सबसे सुरक्षित है अगर आपके द्वारा चैक बैंक प्रणाली का प्रयोग किया गया है जिसमें आपकी कोई भी बेईमानी नहीं कर सकता है आपसे किसी ने जबरजस्ती आपका चैक छीन भी लिया है तो भी वह आपके पैसे नहीं चुरा सकता है क्योंकि बैंक आपके द्वारा किसी को चैक द्वारा किये गये भुगतान की कई जाँच करती है

3-IMPS  - imps का फुल फॉर्म क्या है?

Imps का फुल फॉर्म Immediate Payment Service है

Imps को हिंदी में तत्काल भुगतान सेवा कहा जाता है

      Imps बैंकिंग प्रणाली का प्रयोग होता तो तत्काल और कभी भी है लेकिन imps भारतीय बैंकिंग सिस्टम सबसे रिस्की भारतीय बैंकिंग सिस्टम है आप किसी को imps के द्वारा भुगतान कर रहे हैं   आपने जिस खाते के लिए imps भारतीय बैंकिंग सिस्टम का प्रयोग किया है अगर वह डिटेल गलत हो गयी है खाता संख्या गलत है फिर भी आपके द्वारा डाला गया खाता संख्या किसी किसी का तो होगा ही उस खाते पर आपका पैसा चला जायेगा। फिर पैसे को बापस करवाना बहुत ही मुश्किल है अगर imps बैंकिंग प्रणाली का प्रयोग बैंक शाखा के द्वारा किया गया है तब तो पैसा बापस होना सरल है लेकिन आपके मोबाइल बैंकिंग या नेट बैंकिंग प्रणाली के द्वारा IMPS बैंकिंग प्रणाली का प्रयोग किया गया है तो पैसे बापस होना बहुत ही मुश्किल है

अन्य संबंधित पोस्ट पढ़ने के लिए  नीचे दी गयी पोस्ट की लिंक पर क्लिक करें।

लोन देने वाले आप गरीबों को फिर से बेघर कर देंगे जिसके आपने कई उदाहरण देखे clickto read

Manrega yojna से रोजगार सेवक ने फर्जी ड्यूटी के दम पर लाखों कमाया। Click To Read

भारत में हो रही है पानी की किल्लत गर्मी आते ही नेताओं और न्यूज़ चैनल की नौटंकी सुरु। click to read

  • AEPS भारतीय बैंकिंग सिस्टम - AEPS का फुल फॉर्म क्या है?
  • AEPS का फुल फॉर्म Aadhar Enable Payment system होता है AEPS का मतलब आधार नम्बर या आधार कार्ड से भुगतान करना होता है
  • AEPS बैंकिंग सिस्टम जितना सुरक्षित और सुविधाजानक है. AEPS भारतीय बैंकिंग सिस्टम उतना ही त्रुटि पूर्वक असुरक्षित है

AEPS भारतीय बैंकिंग सिस्टम सुरक्षित क्यों नहीं है?

      सबसे पहले तो आपको बता दूँ AEPS बैंकिंग सिस्टम बैंक के द्वारा प्रायोजित प्रोग्राम नहीं है बस इतना जरुर है अगर किसी खाता धारक के खाते में पैसे हैं खाताधारक का आधार कार्ड बैंक के खाते से लिंक है तो वह खाताधारक अपने खाते के पैसे AEPS भारतीय बैंकिंग सिस्टम का प्रयोग करके निकाल सकता है जिसके लिए सिर्फ आधार नम्बर के साथ बायोमेट्रिक डिवाइस पर ऊँगली रखनी होती है

      AEPS  बैंकिंग सिस्टम असुरक्षित इसलिए है, बहुत से फ्रॉड करने वाले लोग कम पढ़े लिखे लोगों को किसी किसी बहाने बायोमेट्रिक डिवाइस पर ऊँगली लगवाकर पैसे निकाल लेते हैं AEPS बैंकिंग सिस्टम का प्रयोग करके खाताधारक के लिए कोई ऐसी सुरक्षा का इंतजाम नहीं है जिससे तत्काल पता लगाया जा सके पैसे की चोरी कहाँ पर हुयी है? AEPS के द्वारा घोटाले कैसे हुआ? पिछली पोस्ट पर पूरा लेख है जिसका लिंक खोलकर पढ़ सकते हैं

आज के लेख में इतना ही और भी भारतीय बैंकिंग सिस्टम के उपयोग कितने सुरक्षित और असुरक्षित हैं जिसके बारे में दूसरी पोस्ट में जल्दी लिखेंगे

No comments:

Post a Comment

Total Pageviews

पेज