On this website, along with entertainment, you will get news of health, technology, and country and abroad. News posts are available in Hindi and English on our website.

Translate

Breaking

Wednesday, April 14, 2021

इंजीनियर बनना एक बहुत बड़ा ख्वाब होता है लेकिन अगर सरकारी इंजीनियर बनने की बात ही कुछ और है।

       घटिया से घटिया सरकारी निर्माण को सरकारी इंजीनियर पास कैसे कर देता है.

 


      भारत ही नहीं पूरे विश्व में इंजीनियर नाम ही काफी है । फिर बो चाहे सरकारी इंजीनियर हो या प्राइवेट इंजीनियर । इंजीनियरिंग कोर्स भी कई प्रकार के होते हैं । कोई सॉफ्टवेयर इंजीनियर का कोर्स करता है, कोई हार्डवेयर इंजीनियर का कोर्स करता है । नहर, नदी के पुल बनवाने के इंजीनियर अलग होते हैं । ओवरब्रिज के इंजीनियर अलग होते हैं । कपडे आदि की डिजाइन तैयार करने वाले भी इंजीनियर होते हैं । भवन, शॉपिंग मॉल और स्टेशन आदि की मजबूती परखने के लिए, कहाँ क्या होना चाहिए इस बात के लिए भी इंजीनियर होते हैं । दुनियां के इंजीनियर चाहे जैसे हों लेकिन मेरे भारत के इंजीनियर की बात ही कुछ और है । उसी इंजीनियर की अलग स्टाइल पे थोड़ा गौर करते हैं ।

 

     भारतीय इंजीनियर के साथ एक डर और मजबूरी छुपी रहती है । सबसे अधिक डर उन इंजीनियर को होता है जो पुल, ओवरब्रिज किसी सरकारी बिल्डिंग को बनने के बाद निर्माण अच्छा हुआ है उसे पास करना होता है । किसी ओवर ब्रिज के निर्माण में कितनी भी घटिया गुणवत्ता क्यों न हो। भारतीय इंजीनियर आखिर उसे बेहतरीन निर्माण बताकर पास कर ही देता है । कुछ दिन बाद वह ब्रिज भले ही अपने आप ध्वस्त होकर गिर पड़े । उस हादसे में कितने लोग मारे जाएँ इस बात की कोई परवाह नहीं करता है । बाद में लोग इंजीनियर पर सवाल खड़े करते हैं जिसका कोई फायदा नहीं सवाल जिससे होने चाहिए उसका डर इतना होता है कोई सवाल नहीं पूंछता है ।पास करने की वजह होती है जो इस प्रकार है ।

 


    इंजीनियर के पास एक फैमिली भी होती है और उसकी खुद की भी जिंदगी होती है । अपनी जिंदगी से प्यार सभी को होता है तो वह डर की वजह से भी पास कर देते हैं । इंजीनियर को लालच भी होता है घाटिया निर्माण को अच्छा दिखाने के लिए अगर कुछ पैसे जो रिस्वत के रूप में मिल जाते हैं वह रख लेता है ।

 

      इंजीनियर किसी घटिया निर्माण को घटिया इसलिए नहीं बता पाता है । भारत में ओवर ब्रिज, रोड, पुल सरकारी बिल्डिंग को बनवाने के ठेकेदार अधिकतम या तो वह गुंडा गर्दी से ठेका लेते हैं । और बाकी के बचे हुए ठेकेदार किसी बड़े नेता के भाई, रिस्तेदार या जान पहचान वाले होते हैं । अगर इंजीनियर ने घटिया निर्माण बताकर किसी पुल आदि को रिजेक्ट कर दिया है तो बाद में उसके पास धमकी देने के लिए गुंडे जायेंगे या नेता जी का नौकरी से निकालने का लेटर । तो ऐसे में बेचारा इंजीनियर भी क्या करे जो भी पैसे मिल रहे हैं उसे चुपचाप रख लेने में भलाई है ।

 


         इंजीनियर बनने के बाद जिंदगी कैसी भी हो लेकिन नाम बहुत ही बड़ा होता है । देश की तरक्की में एक इंजीनियर का हाथ होता है बो चाहे सॉफ्टवेयर इंजीनियर हो या हार्डवेयर इंजीनियर । आपको अपने बजट के हिसाब और बाद में कमाई के सपने देखकर भी प्लान कर सकते हैं कि मुझे किस हिसाब का इंजीनियरिंग कोर्स करना है । जिसके लिए आपको अनुभव और अपने इंजीनियर दोस्तों की सलाह लेनी है ।

 

      सबसे आराम की नौकरी सॉफ्टवेयर इंजीनियर की होती है । इसमें शारीरिक थकावट बिल्कुल नहीं होती है लेकिन मानसिक तनाव कभी कभार बढ़ता घटता रहता है । हार्डवेयर इंजीनियर को शारीरिक थकावट हो जाती है लेकिन कमाई दोनों में अच्छी है । आप अगर किसी प्राइवेट कम्पनी में इंजीनियर हैं तो वहाँ पर एक्स्ट्रा कमाई अधिक नहीं हो पाती है । कभी कभार मौका लगे तो हो भी सकती है । फिर भी आपके पास अगर इंजीनियर का डिप्लोमा है, जानते भले ही कुछ न हो आपको तनख्वाह अच्छी ही मिलती है ।

 

इंजीनियरिंग कोर्स दो प्रकार से होते हैं।

 

    1 - मन लगाकर पढ़ना - आप किसी कॉलेज में अपना एडमिशन लेकर मन लगाकर पढ़ाई की है और आप एक मेहनती व्यक्ति हैं आप जिंदगी में कुछ कर दिखाना चाहते हैं तो आप इंजीनियर बन सकते हैं ।

 

     2- पैसे देकर डिप्लोमा लेना- ये सबसे बेहतरीन तरीका है लेकिन हर किसी के लिए नहीं है । इंजीनियर बनने का ये तरीका सिर्फ उनके लिए है जो सिर्फ जरुरत पड़ने पर चिल्ला-चिल्ला कर लोगों की भीड़ में दिखा सकते हैं । आपके पिता कोई नेता हैं और आपको एक पढ़ा लिखा नेता बनाना चाहते हैं तो आप एक्स्ट्रा पैसे देकर इंजीनियरिंग का डिप्लोमा घर बैठे ले सकते हैं । और अगर आपके पिता का ही इंजीनियरिंग कॉलेज है फिर तो आप मनचाहा डिप्लोमा ले सकते हैं । ये डिप्लोमा बहुत ही काम का होता है । इस डिप्लोमा से दूसरों से सवाल भी उठा सकते हैं । आप कितने भी मूर्ख क्यों न हो लेकिन यह डिप्लोमा भरी भीड़ को बेवकूफ बनाने में काम आएगा । इस डिप्लोमा से नुकसान भी है कहीं नौकरी करने की इक्षा है मुश्किल मिलना है ।

 

तो दोस्तो आप भी इंजीनियर बनकर कमाई कर सकते हैं । तय आपको करना है हमें इंजीनियरिंग डिप्लोमा चाहिए किस प्रकार का ।

No comments:

Post a Comment

Total Pageviews

पेज